Tag Archives: lucknow literary festival

कल भी अवधी का था, आज भी है और कल भी रहेगा!

यह खुशी की बात थी कि लखनऊ लिटरेरी फेस्टिवल-१३ के दौरान  अवधी का भी एक सत्र रखा गया था। तारीख – २३/३/१३। इस सत्र की रपट यहाँ बिना किसी काट-छाँट के दी जा रही है जिसे जागरुक पत्रकार और मित्र अटल तिवारी ने भेजी है। हम अटल जी के आभारी हैं। : संपादक
_______________________________________________________

 कल भी अवधी का था, आज भी है और कल भी रहेगा!
*अटल तिवारी

दो दिवसीय लखनऊ लिटरेरी फेस्टिवल के पहले दिन का अंतिम सत्र अवधी भाषा पर केन्द्रित था। विषय था-‘अवधी कल, आज और कल’। वक्ताओं में शामिल थे पद्मश्री बेकल उत्साही व लोक भाषा के जानकार योगेश प्रवीन। संचालन की जिम्मेदारी जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से आए डाॅ. अमरेन्द्र त्रिपाठी पर थी। सत्र तय समय से काफी विलम्ब से शुरू हुआ। इसके बावजूद इसमें हिस्सा लेने के लिए लोग इंतजार करते रहे। यह अवधी के प्रति लोगों का लगाव कहिए या बेकल उत्साही के मुंह से निकला एक-एक शब्द सुनने की ललक। सोशल मीडिया के जरिए पिछले चार साल से अवधी का प्रसार करने में लगे डाॅ. अमरेन्द्र ने माइक संभाला। लोगों को विषय से रूबरू कराया। इसके साथ अवधी भाषा को लेकर बेकल उत्साही के सामने सवाल किया।

बेकल जी ने कहा कि ‘अवधी दुनिया की सबसे बड़ी भाषा है। अवधी की रचनाएं-पद्मावत, अमरावत व रामचरितमानस दुनिया की सबसे बड़ी रचनाएं हैं।’ अवधी को बढ़ाने की बात करते हुए उन्होंने कहा कि ‘हम जब राज्यसभा में थे तो अवधी समेत क्षेत्रीय भाषाओं को बढ़ावा देने के लिए सुझाव दिया था कि उत्तर प्रदेश को चार भागों में बांट दीजिए। उत्तराखण्ड, रुहेलखण्ड, बुन्देलखण्ड, पूर्वांचल। मेरी इस बात का लोगों ने गलत मतलब निकाल लिया। कहने लगे कि यह तो बंटवारा चाहता है। पाकिस्तानी है। पता नहीं और क्या-क्या कहा। अरे, भैया हम तो कहते हैं कि अवधी ऐसी जबान है कि इसके बिना हम जिन्दा नहीं रह सकते।’ अवधी से उन्हें कैसे लगाव हुआ? लिखने की शुरुआत कहां से की…इस पर बेकल जी ने कहा-‘अवधी से बचपन से ही लगाव था। पहले गीत लिखने शुरू किए। फिर रमई काका के साथ रेडियो पर काफी काम किया। लखीमपुर-खीरी जिले के निवासी बंशीधर शुक्ल के चरणों में पड़ा रहा। अवधी की इन विभूतियों से खूब सीखा। घर और गांव में हरवाह-चरवाह जो बोलते थे उनकी बातों को ध्यान से सुनते थे। उनको जेहन में उतारने की कोशिश करते थे। उनकी बातों में तहजीब दिखती थी। तहजीब का जिक्र आया है तो एक किस्सा सुन लीजिए। जाड़े का समय था। घर में काम करने वाले परसन काका ने कौरा यानी अलाव लगाया था। हम कौरा जलति देखेन तौ आलू भूनइ खातिर डारि दिहन। उइ मारिन। अम्मा घर पर नाइ रहइ। पड़ोस के गांव यानी अपने मइके में रहइ। हम र्वावति गएन। पूछिन का भवा। हम बताएन परसन मारिन हैं। उइ जूती निकारिन। दुइ मारिन। बोलीं, परसन कहति हउ। काका नाइ कहि पावति। यह घटना मैं इसलिए बता रहा हूं कि इस तरह अवधी हमें तहजीब सिखाती है। इंसान को इंसानियत सिखाती है।’

llf-2

(बाएं से) हिमांशु बाजपेयी, पद्मश्री बेकल उत्साही, योगेश प्रवीण और अमरेन्द्र नाथ त्रिपाठी

पहले और अब की अवधी में बड़ा बदलाव दिखता है। इस पर बेकल उत्साही ने कहा-‘यह पद्मावत का समय नहीं है। इसमें लोग आते रहे। अपने हिसाब से बदलाव करते रहे। इसके बावजूद इस भाषा ने उन्नति की। इसका और विस्तार करने के लिए अवधी संस्थान बनना चाहिए। हम सालों से एक अवधी चैनल की बात कर रहे हैं। आप सभी लोग मांग उठाइए। सरकार को एक चैनल शुरू करना चाहिए। इससे दो फायदे होंगे। पहला भाषा का विकास होगा। दूसरा युवाओं को रोजगार मिलेगा। ऐसे में युवा पीढ़ी की भाषा के प्रति ललक बढ़ेगी। अरे, दिल्ली में मुख्यमंत्री शीला दीक्षित से कहकर मैंने अवधी अकादमी कायम करा दी। दुख इस बात का होता है कि जहां की अवधी है वहां कुछ भी नहीं। इतना बड़ा प्रदेश है। एक अवधी संस्थान तक नहीं।’ बात पूरी होते देख संचालक ने अवधी के भविष्य को लेकर सवाल उछाला। इस पर बेकल उत्साही जी खानापूर्ति वाला जवाब देने के बजाय युवा संचालक के सामने ही सवाल उठा दिया। बोले-‘कल क्या होगा यह तो हम आप नौजवानों से पूछते हैं। वैसे तो हम गंवार हैं। यह बुद्धिजीवी (मंच पर बैठे योगेश प्रवीन व डाॅ. अमरेन्द्र त्रिपाठी) अवधी की बात करेंगे। इसी के साथ संचालक ने लोक भाषा के जानकार योगेश प्रवीन से अवधी के क्षेत्र व उसके इतिहास के बारे में पूछा।

योगेश प्रवीन ने कहा-‘नेपाल की तराई से गंगा के दहाने तक अवधी का बोलबाला है। पहले बारह आबाद जिलों तक अवधी का सिक्का रहा है। हां, यह बात जरूर है कि कुछ क्षेत्र बादि लहजा बदलति रहति है।’ उन्होंने मुल्ला दाउद के ‘चन्दायन’, मलिक मुहम्मद जायसी की ‘पद्मावत’ व तुलसीदास की ‘रामचरितमानस’ के जरिए अपनी बात का विस्तार किया। साथ ही कुछ कहावतों के जरिए माहौल को हल्का बनाने की कोशिश की। देवरानी-जेठानी के बीच काम को लेकर एक कहावत कही-‘एक आंगन में दुइ, उइ कहइ उइ, उइ कहइ उइ।’ इस पर मौजूद अवधी प्रेमी हंसने लगे। योगेश प्रवीन ने समृद्ध अवधी लोकगीतों की जानकारी दी। साथ ही बेगम अख्तर के गाए दादरा-‘चले जइहो बेदरदा मैं रोइ मरिहौं…’ की बात की। अवधी क्षेत्र…भाषा व उससे लोगों के लगाव की बात करते हुए योगेश प्रवीन ने कहा-‘आज भी आम आदमी की भाषा अवधी है। लोग अवधी आसानी से समझते हैं। अवधी का चलन बना रहे इसके लिए घर के बड़े लोग घरों में बच्चों से बातचीत में इसका इस्तेमाल करें। अगर बच्चों को अवधी से नहीं जोड़ा गया तो वे इससे दूर हो जाएंगे। यह अवधी के लिए अच्छा नहीं होगा। जाहिर है कि यह तहजीब के लिए भी सही नहीं होगा।’

डाॅ. अमरेन्द्र त्रिपाठी ने अवधी की बात करते हुए कहा कि अवधी करोड़ों किसानों की भाषा है, लेकिन दुखद यह कि हम इसका इतिहास तक नहीं रख रहे हैं। यह हमारे लिए कितनी शर्मिन्दा करने वाली बात है। संचालक ने भाषा के विस्तार को लेकर एक बार फिर पद्मश्री बेकल उत्साही से सवाल किया। बेकल जी ने कहा-‘अवधी क्षेत्र में जगह-जगह बैठकें होनी चाहिए। उसमें यह ध्यान न रखा जाए कि कितने लोग शामिल हो रहे हैं। जाहिर है पहले संख्या कम रहेगी। गोष्ठी, सेमिनार, कविता-कहानी पाठ के छोटे-छोटे आयोजन होने चाहिए। प्रतियोगिताएं होनी चाहिए। इससे नयी पौध का भाषा के प्रति प्रेम बढ़ेगा। वह इसे बोलने में संकोच नहीं करेगी।’ बेकल जी ने अपनी एक इंग्लैण्ड यात्रा का जिक्र करते हुए कहा-‘बीबीसी ने मेरा साक्षात्कार लेने के लिए कहा। मैंने साफ कह दिया कि हम तो अवधी में बोलते हैं। अवधी में साक्षात्कार लेना हो तो बात करिए अन्यथा नहीं। वह तैयार हो गए। पूरा साक्षात्कार मैंने अवधी में दिया।’ बेकल जी ने कहा कि ‘अवधी में दूसरों को अपनाने की भी क्षमता है। पता नहीं कितने फारसी और उर्दू के लफ्जों को आत्मसात किया है, जिससे इसका लालित्य बढ़ा है। जैसे मेहरारू शब्द अवधी में है। वैसे यह है फारसी का…लेकिन अवधी ने आत्मसात कर लिया।’ युवा पीढ़ी से उम्मीद जताते हुए उन्होंने कहा कि ‘मैं उम्रदराज हो गया हूं। अब आप लोगों पर अवधी को आगे बढ़ाने की जिम्मेदारी है। हां, इतना जरूर कहूंगा कि अगर अवधी चली गई तो बड़ा तहजीबी नुकसान होगा।’ फेस्टिवल के पहले दिन का यह अंतिम सत्र था। समापन की ओर था। देर शाम हो चली थी…लेकिन अवधी प्रेमी व बेकल जी के प्रशंसक जमे बैठे थे। उन्होंने बेकल जी से कुछ सुनाने को कहा। बेकल जी सामने मेज पर रखी अपनी किताब ‘सरसों के जूड़े में टेसू के फूल’ पलटने लगे। फिर गुनगुनाया…‘नाचै ठुमुक ठुमुक पुरवाई।’ लोगों ने पूरे मनोयोग से सुना। तालियों से दाद दी। इसी बीच एक अवधी प्रेमी ने एतराज जताया कि अवधी के सत्र की अनदेखी की गयी। आयोजकों ने इसे मुख्य हाल में न रखकर एक कोने में रखा। समय का ध्यान नहीं रखा। यह भेदभाव नहीं होना चाहिए। इस पर आयोजकों की ओर से क्षमा याचना की औपचारिकता दिखी। वहीं संचालक ने वक्ताओं को धन्यवाद दिया। सजग पत्रकार और अवधी-प्रेमी हिमांशु बाजपेयी ने सत्र की शुरुआत की ही तरह  समापन की भी घोषणा की।
(फोटो: साभार, लखनऊ सोसाइटी)

Advertisements