Category Archives: LANGUAGE ISSUE

आठवीं अनुसूची और अवधी (१) : अवधी अध्येता शैलेन्द्र कुमार शुक्ल का वक्तव्य

‘हिन्दी बचाओ मंच’ नाम कय संस्था जेसस आपन भासाई फासीवाद कय सिकंजा कसति जाति अहय, तेसस हिन्दी पट्टी केर लोकभासा वाले खदबदात जात अहयँ। अवधी के बरे, दुनिया भर मा, अपनी पहिचानि कै झंडा फहरावय वाले जगदीस पीयूस सुत राकेस पान्डे कय यक दसकतिया सच्चाई कय भंडा फूट तौ यक फेसबुकिया बहस सुरू भय। यहि पै सैलेन्द्र सुकुल यक वक्तव्य लिखिन। यही महीनी केरी सत्तरा जुलाई का। ‘खरखैंचा’ पै लगायिन। मुल खरखैचा कै ऊ लेख खुलत नाहीं ना। का जनीं काहे। यहिते ‘आठवीं अनुसूची और अवधी’ लेखमाला कै सुरुआती आलेख के रूप मा यही आलेख रखा जात अहै। : संपादक 
____________________________________________________

कूप-मंडूक अवधियों के नाम एक वक्तव्य

20106654_1999555283403902_680498689825182597_nगो-रक्षा आंदोलन और आधुनिक हिंदी का उद्भव एक ही राजनीति एजेंडे के रूप में हमारे सामने आया। गो माता की तरह हिंदी माता के भी महिमा मंडन की प्रक्रिया एक साथ राजनीतिक तौर पर तेज होती गई। उस समय भी अवधिये सबसे ज्यादा कन्फ़्यूज्ड थे- प्रतापनारायण मिश्र इसके उदाहरण है और प्रताप-लहरी इसकी गवाह है। ‘हिंदी-हिन्दू-हिंदुस्तान’ इन्हीं का दिया हुआ नारा है। इन्होंने भी दोनों को साधने की पूरी साधना की है। हिंदी जिन रूपों में मानकीकृत हो कर आई, उस पर महत्वपूर्ण शोध फेंचेसिका आर्सेनी,वसुधा डालमिया और आलोक राय आदि ने तर्क संगत काम किया है। अवधियों की गत न्यारी ही रही है, उनके पास जायसी हैं, तुलसी है, रहीम हैं माने वही ही गौरव और गर्व के केंद्र में थे। तो उनको अब कोई परवाह नहीं, क्योंकि उनके पास गौरवशाली पुरखे हैं। उन्होंने यह कभी नहीं सोचा अरे हम क्या कर रहे हैं, रीतिकाल भर तुम क्या कर रहे थे,आधुनिक युग में पढ़ीस से पूर्व तुमने क्या किया। यह सब उनके सोचने का विषय कभी नहीं रहा। तुम भी सत्ता का राग उसी की भाषा में गा रहे थे और चाटुकारिता कर रहे थे, यह कब तक छुपाओगे! पढ़ीस के बाद नई लीक अवधी में पड़ी लेकिन उस पर अवधी का कौन कवि चला यह किसी से छुपा नहीं। अवधिये अपने पुरातन घमंड में चूर मानस पर कर्मकांड करते रहे और अब अवधी के उद्धार के लिए अवधी होटल खोलने की तैयारी में लगे हैं और अवधी की तीर्थ यात्राएं चालू हैं, और जीवित भाषा की तेरहीं मना कर पोथन्ने छापे जा रहे हैं।

आज भी सबसे ज्यादा अवधी वाले ही कन्फ़्यूज्ड हैं। जब भोजपुरी ने अपनी आवाज उठाई और उससे पहले भी तमाम विसंगतियों के बावजूद जब भोजपुरी बाजार में डिंकने लगी तो स्वनामधन्य अवधिये नींद से जागे तब तक उन्हें नहीं पता था कि अवधी पीछे छूट रही है। खैर, यह भी गज़ब की बात है की अवधियों की नब्बे फीसदी आबादी यह जानती ही नहीं कि वह जो भाषा बोलती है उसका नाम क्या है। और बाकी के अवधिये धार्मिक और सांप्रदायिक कामों में व्यस्त थे, बचे प्रगतिशील लोग तो उनको अपनी बौद्धिकता प्रमाणित करने में अवधी की बात कर के गंवार थोड़ी न होना था। यह राम कहानी है अवधी की। गाँव देहात से जो तनिक भी पढ़ लिख कर या बिना पढ़े-लिखे भी थोड़ा बाबूगिरी टाइप कुछ शहर में मिल गया तो उनके घर में अवधी प्रतिबंधित हो जाती है या घ्रणा की वस्तु समझी जाती रही है। बाकी देहात में भी यदि घर से बाहर सड़क पर पाँव निकाल लिए तो अवधी बोलने में देहातीपन का बड़ा भारी बट्टा लग जाता है। आचार्य रामचन्द्र शुक्ल भी इस तरह का एक वाकया जो लखनवी मित्र के साथ सांची का स्तूप देखने गये थे, कभी भुला नहीं पाये नहीं। महुए का नाम जानने से बाबू पन में भारी बट्टा लग जाता है। इस तरह अवधियों ने बहुत दिनों तक यह जाना और समझा ही नहीं कि अवधी भी अभिमान की विषयवस्तु है, खैर भोपुरियों का शुक्रिया कि इन्हें ईर्ष्या करने के लिए जगा लिया।

इधर बीच जब भोजपुरी को संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल करने के लिए भोजपुरियों ने साहित्य से लेकर राजनीति तक आवाज उठाई तो साहित्य के स्वनामधन्य नेताओं ने सोचा कि यह क्या, अब इन्द्र का सिंहासन डोलने लगा, ये कौन मनुज हैं जो हमारा आसान छीनने के लिये तप करने लगे हैं। डर भयानक था । उधर कलकत्ता से एक आहात आवाज सुनाई पड़ी त्राहिमाम …..त्राहिमाम । बचाओ प्रभू , बचाओ, अगर सरकार हाकिम ने कहीं भोजपुरी को अनुसूची में शामिल कर लिया, तो हम हिंदी वालों का धंधा कैसे चलेगा, हमारी बाबूगिरी का क्या होगा, हमारे कस्टमर कम हो जाएंगे! हम बर्बाद हो जाएंगे! इस तरह आहात होकर देवतुल्य आचार्य श्री…श्री….108 डॉ. अमरनाथ जी ने हिंदी के अश्वमेघ यज्ञ के आयोजन के लिये गुहार लगाई। और अपनी साम्राज्यवादी शक्तियों को संगठित कर हिंदी को फिर गोरक्षा आंदोलन की याद दिलाई। इस तरह हिंदी के साम्राज्यवादी अश्वमेधीय घोड़े कलकत्ता दिल्ली से होते हुये अवध में आये। मजे की बात यह भी कि इधर फिर से गोरक्षा आंदोलन जब से ज़ोर पकड़ा है तभी से हिंदी बचाओ अभियान भी कुंलांचे भरता हुआ, चिल्लाता हुआ, चीखता हुआ सामने आ ही गया। असल में दोनों का चरित्र एक ही है।

तो यह बात मैं खास कर अवधियों के लिये ही कह रहा हूँ , उधर ही आता हूँ। डॉ. अमरनाथ जी ने जब हिंदी बचाओ मंच नामक संप्रदाय खोला तो उसमें सबसे ज्यादा अवधिये ही शामिल हुये। उनकी ईर्ष्या ज़ोर मार रही थी, हमारे पुरखे तो हाथी पालते थे, हमारे बाबा घोड़े से चलते थे आदि …आदि। लेकिन इन्हें यह खयाल कभी नहीं आया कि हमारी जान तो कुकुर को एक कौर डालने में भी निकलने लगती है, हमने क्या किया, इसकी कोई परवाह नहीं। हिंदी के साहित्यिक घराने में कुछ अवधी जाति के नागरिक हैं जिन्हें अपनी पैदाइश पर बड़ा फ़क्र है। यह विश्वविद्यालयाओं में भी हैं और प्राइमरी स्कूलों में भी। भोजपुरियों को देख इनको भी राजनीति सूझी। तो दो रास्ते नजर आए – या तो अवधी बिना प्रयास के संविधान की अनुसूची में शामिल हो जाए और हम लोग अवधी अकादमी के अध्यक्ष बने फिर अपने चाटुकारों को पुरस्कार बांटें, फंड दें, अवधी होटल खोलें ,भंडारा करें और पोथन्ना छापें। और दूसरा रास्ता यह कि भोजपुरी के खिलाफ खड़े होकर हिंदी बचाओ मंच से जुड़ें और भोजपुरी को अनुसूची में शामिल ही न होने दें। तब मामला बराबर। अवधिये बहुत कन्फ़्यूज्ड हैं। इधर अवधी प्रेम भी प्रदर्शित कर देते हैं और उधर हिंदी बचाओ मंच के उद्धारक देवताओं की पालकी भी ढो रहे हैं। मैं तो कहता हूँ तुम धन्य हो अवधियों ! तुम्हारे कन्फ़्यूजन को धिक्कार है !

12990877_907399619386471_7624885558235429674_n

शैलेन्द्र कुमार शुक्ल

आज अवधी के स्वाभाविक और हिम्मती साथी अमरेन्द्रनाथ त्रिपाठी जी ने एक पोस्ट फेसबुक पर मुझे टैग की। पोस्ट देख कर मैंने फिर माथा पकड़ लिया। कोई राकेश पाण्डेय है, अपने को अवधिया मानते हैं । हिंदी को बचाने के लिए और भोजपुरी को अष्टम अनुसूची में शामिल न किया जाय , इसलिये हस्ताक्षर अभियान चला रहे हैं, ऊपर पत्र में मोदी जी से गुहार लगाई गई है, बाकायदा। राकेश जी जैसे अवधी भाषी आप को बहुत से मिल जायेंगे। ये अवधी की बात करते हैं, संस्कृति को मेनटेन करने के लिये विविध आयोजन किया करते हैं। दरअसल इन चीजों से इनका कोई सरोकार नहीं है, ये वर्ग संघर्ष में दूसरे वर्ग से आते हैं -“उयि अउर आहि हम और आन” । इनके पास खूब पैसा है,अच्छी नौकरी है, बच्चे कनवेंट स्कूलों में सालाना लाखों रुपयों की फीस पर पढ़ते हैं, बड़े-बड़े शहरों में अच्छे मुहल्लों में घर हैं इनके। बस थोड़ा इज्जत और शोहरत के लिये देश प्रेम, लोक-प्रेम, भाषा-प्रेम(विद्वता प्रदर्शन के लिये), साहित्य प्रेम, संस्कृति प्रेम का प्रदर्शन कर लेते हैं। ये ऐसे योद्धा हैं जो ठेके पर आंदोलन चलवाते हैं, छठे-छमहे कल्चरल प्रोग्राम करवा देते हैं, सत्ताधारी नेताओं से मिल कर सौ बार चरण बन्दना करते हैं, और सांप्रदायिक दंगों से लेकर मंदिर निर्माण हेतु चंदा देते हैं, और जाहिल इतने कि लाल हरे नगों वाली अंगूठियों से लेकर  लाल-काले कपड़ों में लपटे पंडों और मुल्लाओं की भभूत देह पर सुविधानुसार बांधे रहते हैं। इनकी मूर्खता जग जाहीर है। और एक बात तो छूट ही गई इनकी सबसे बड़ी पहचान यह कविता के बहुत भारी रसिक होते हैं। तो इनके लिये राकेश रंजन की दो पंक्तियाँ याद आ रहीं हैं-

‘तुमरी जय जय कार सुअरवा
तुमको है धिक्कार सुअरवा।’

******

अवधी, पांचाली, राजस्थानी आदि (हिन्दी से) स्वतंत्र भाषाएँ हैं : ‘हिन्दी के पाणिनि’ किशोरीदास वाजपेयी

किशोरीदास वाजपेयी

जबरिया हिन्दी कै बोली कही गै तमाम छेत्रीय भासन कै वकालत करै वाले मनई क हिन्दी अकादमिकी मा बड़े आराम से ‘हिन्दी-बिरोधी’ कहि दीन जात है। हमार खुद कै अनुभव अहै कि जब जब हम यहि सच्चाई क कहै कै कोसिस किहेन हैं कि अवधी-भोजपुरी..आदि क हिन्दी कै बोली कहब गलत है, तब तब लोगै हमका हौहाय लिहिन हैं। पता नहीं हिन्दी अकादमिकी कै मनई काहे सच्चाई नाहीं सुना चाहत! आज से देढ़-दुइ साल पहिले हिन्दी के कुछ तरफदारन से बातचीत करै के दौरान हम किशोरीदास वाजपेयी क अपने पच्छ म कोट किहेन तौ कुछेक लोगै हमैं ई बात कहिन कि हम वाजपेयी जी के मंतव्य क गलत कोट करत अहन। यहिलिए हमैं ई उपयोगी लाग कि वाजपेयी जी के मंतव्य क हाजिर कै दी। 

तरे दीन किशोरीदास वाजपेयी कै बतकही यहि बात कै सबूत है कि कौनी तिना तार्किक ढंग से सोचै पै सच्चाई अपने आप आदमी के मत का बदलि दियत है। पहिले बाजपेयिउ जी यहै सोचत रहे औ यही के तहत अपने ग्रंथ ‘हिन्दी शब्दानुशासन’ मा कयिउ बार अवधी, भोजपुरी..आदि भासन क हिन्दी कै ‘बोली’ कहि गये  मुला बाद मा जब वै ‘भारतीय भाषाविज्ञान’ लिखिन तौ तार्किक आधार पै खुद ई बात कबूलिन कि यै सब लोकभासै हिन्दी से बहुत अलग हैं, जैसे बंग्ला, मराठी ..आदि औ इनका हिन्दी कै ‘बोलियां’ नाय कहा जाय सकत। यहि बात के मद्देनजर बाजपेयी जी ‘हिन्दी शब्दानुशासन’ के ‘दूसरे संस्करण पर लेखक का निवेदन’ के दौरान आपन मत साफ-साफ जाहिर कै दिहिन, दुरभाग से उनके यहि मंतव्य का बिना देखे उनके ग्रंथ कै पाठ कीन जात है अउर गलतफहमी फैलाई जात है। खड़ीबोली-हिन्दी मा कही किशोरीदास वाजपेयी कै पूरी बाति अस है : संपादक
__________________________________________________

अवधी, पांचाली, राजस्थानी आदि (हिन्दी से) स्वतंत्र भाषाएँ हैं : किशोरीदास वाजपेयी

पहले मैं भी अवधी, राजस्थानी, कूर्मांचली आदि भाषाओं को (स्वतंत्र भाषाएँ न मानकर) ‘हिन्दी की बोलियां’ मानता था। ‘हिन्दी शब्दानुशासन’ में भी यथाप्रसंग ऐसा ही लिखा है। परन्तु ‘भारतीय भाषाविज्ञान’ लिखते समय जब भाषा की परिभाषा की, तो मत बदल गया और निश्चय हुआ कि अवधी, पांचाली, राजस्थानी आदि स्वतंत्र भाषाएँ हैं। इन सबके अपने-अपने स्वतंत्र नियम और विधि-विधान हैं। इन्हें स्वतंत्र भाषा न मानकर ‘हिन्दी की बोलियाँ’ ही कहें, तो फिर बांग्ला, मराठी, गुजराती आदि को भी ‘हिन्दी की बोलियाँ’ कहना होगा! जिस भाषा का व्याकरण ‘हिन्दी शब्दानुशासन’ है और जिस भाषा में ये पंक्तियाँ लिखी जा रही हैं, उससे अवधी आदि की बनावट कितनी भिन्न है; समझने की चीज है। फिर; अवधी और भोजपुरी आदि में परस्पर कितना अंतर है! अवधी में ‘आवा’ भूतकाल की क्रिया है और भोजपुरी (काशिका) में ‘आवा’ आज्ञा-आमंत्रण है! ‘तनीं आवा’ – जरा आइए। राष्ट्रभाषा (हिन्दी) में ‘आया’ ‘गया’ आदि भूतकालिक क्रिया के एकवचन हैं; पर राजस्थानी में ऐसे रूप एकवचन में आते हैं –

एक वचन –

राम को लड़को आयो
(राम का लड़का आया)

और, बहुवचन –

राम का सब लड़का आया
(राम के सब लड़के आए)

कितना अंतर है? आकाश-पाताल का! ‘रामचरितमानस’ ने तथा ब्रजभाषा-काव्यों ने अवधी और ब्रजभाषा का ऐसा प्रचार कर दिया है कि इन्हें सब सरलता से समझ लेते हैं; परन्तु पांचाली, कूर्मांचली आदि के वाक्य यहां उद्धृत कर दिए जाएँ, तो हिन्दी के उन विद्वानों की समझ में न आएँगे जिनकी वे मातृभाषाएँ नहीं हैं। किसी भाषा में साहित्य नहीं बना, तो क्या वह भाषा ही न रही? किसी थाली में नित्य भोजन की दाल-रोटी रखी जाती है; खीर नहीं परोसी गयी, तो क्या उसे ‘थाली’ ही न कहेंगे? प्रत्यय-विभक्तियों में रूपांतर हो जाना ही सजातीय भाषाओं की भिन्नता का नियामक है। इस दृष्टि से अवधी आदि स्वतंत्र भाषाएँ हैं। एक ही भाषा के अवांतर भेद उसकी बोलियाँ कहे जाएँगे। यानी प्रत्यय आदि भिन्न न होकर शब्द-राशि में कुछ हेर-फेर हो; या इसी तरह की कोई दूसरी चीज हो, तो वे सब भेद एक ही भाषा की ‘बोलियाँ’ कहे जाएँगे। ‘भारतीय भाषाविज्ञान’ में बहुत स्पष्ट विवेचन किया गया है; इसलिए यहाँ उन्हीं बातों को दुहरा कर ग्रन्थ का कलेवर मोटा कर देना अच्छा नहीं। यह ग्रंथ और ‘भारतीय भाषाविज्ञान’ एक दूसरे के पूरक हैं।

___किशोरीदास वाजपेयी, हिन्दी शब्दानुशासन, दूसरे संस्करण पर लेखक का निवेदन, पृष्ठ – ९-१० / नागरीप्रचारिणी सभा, पंचम संस्करण, संवत्‌ २०५५ वि.

नोट : किशोरीदास वाजपेयी केर बाति कै टाइटिल संपादक खुदै तय किहिस है।