Category Archives: छोटे मुँह बड़ी बात

छोटे मुँह बड़ी बात [३] : पतोहिया कै चालूपना

   यक घरे मा यक सास पतोहिया रहीं। पतोहिया चालू सुभाव कै रही, अपने यार से तय किहिस कि आधी राति मा आयेउ औ मोहारे कै छानि तनिका भै खुड़काय दिहेव। यार जल्दबाज रहा, तनिका जल्दी चला आवा औ छानि खुड़काय दिहिस। सासु के नींद नाहीं आई रही अबहीं। पतोहिया मौका भाँपि के यक कविता कहिस:

के टकटोहै छानि-छपरिया, के खुटकावै छानि।
सासु न सोई जागति बाटै, लौटौ बिरथा जानि॥

ई कविता कहि के पतोहिया सासु से पूछिस कि यहिकै का अरथ भा? वहिरी पतोहिया कविता के जरिये अपने यार का सनेसौ पहुँचाय दिहिस। ससुइयौ घुटी खोपड़ी रही, नहले पै दहला के अंदाज मा कहिस:

अस खेला हमहूँ खेलेन हैं, जबले रही जवानी।
अपने यार का राह सुझायिउ, हमैं बुझायिउ कहानी॥

पतोहिया कै चाल पकड़ि लीन गै, ऊ खिसियाइ के रहि गै।

_पारंपरिक

सादर / अमरेंद्र अवधिया

छोटे मुँह बड़ी बात [२] : जिम्मेदारी !

  सन १९३३ कै बाति आय। गाँधी जी देस भर कै दौरा करत रहे। जहाँ जहाँ जात रहे, ह्वईं हरिजन कोस के बरे धन यकट्ठा करत रहे। महादेव जी गाँधी कै निजी सचिउ रहे। यई पाई पाई कै हिसाब रक्खत रहे। 

    यक दिन राति मा जब महादेव जी हिसाब करै बैठे तौ दंग रहि गये। उनका लगभग हजार रुपया कै कमी जानि परी। सचेत होइके फिर जोड़िन-जाड़िन मुला रुपया कै कमी फिरिउ निकरी। दरअसल रुपया कै थैली केहू मारि लिहे रहा। जे रुपया चोराय लिहे रहा, वहकै पता लगाउब टेढ़ी खीरि रही। महादेव जी दुखी होइ गये, अउर कयिन काव सकत रहे!

    होते करते बाति गाँधिउ जी तक पहुँची। गाँधी जी पूरे वाकये से अवगत भये। लोगै उनसे पूछिन: “बापू! इन हेरान रुपयवन के ताईं काव कीन जाय, काव सोचत हैं आप?”

    गाँधी जी कुछ देर चुपान रहे फिर बेखटके कहिन: “काव कीन जाय वाली कौन बाति! ई रुपया महादेव जी अपनी जेबिस्‌ भरैं!”

    केहू कहिस: “बापू! महादेव जी तौ रुपया लिहिन नाय!”

    गाँधी जी कहिन: “यहिसे का भा! आखिर जिम्मेदारी तौ महादेवै जी कै रही। ई सार्वजनिक पैसा आय, सबकै धन!”

    थोड़ी देर तक माहौल सनामन्न रहा। केहू कुछू नाय कहिस। आखिर वहि रकम का महादेव जी अपनी निजी कमाही से भरिन।